गर्भपात कराने पर महिला डॉक्टर के यहां छापा, शिकायत पर जिला स्तरीय जांच दल ने किया स्टिंग ऑपरेशन 

0
688
woman-doctor-raided-on-abortion-mp-samachar
ग्वालियर :- पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत की गई कार्रवाई के दौरान पकड़े गए लोगों से पूछताछ करते जिला स्तरीय जांच दल के सदस्य। जिले में कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए गठित जिला स्तरीय जांच दल ने गुरुवार को गर्भवती महिला के माध्यम से एक स्त्री रोग विशेषज्ञ के निवास पर स्टिंग ऑपरेशन कर एक दलाल राजेन्द्र कुशवाह को पैसों के साथ रंगे हाथों पकड़ लिया हैं। दल ने मौके पर उक्त स्त्री रोग विशेषज्ञ तथा आरोपी तथा स्टिंग ऑपरेशन में गई महिलाओं के बयान दर्ज किए हैं। दल ने स्त्री रोग विशेषज्ञ का घर होने से मौके से कोई सामग्री एवं अभिलेख बरामद नहीं किया है। स्त्री रोग विशेषज्ञ जीआरएमसी के एनाटोमी विभाग में पदस्थ हैं। उक्त प्रकरण में स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया जाएगा।

प्रशासन को शिकायतें मिल रही थीं कि माधव डिस्पेंसरी के सामने स्थित बंशी की बगिया में बनी लक्ष्मी रेसीडेंसी के फ्लैट नंबर 101 निवासी डॉ. रीता कुशवाह के यहां अवैध रूप से लिंग परीक्षण और गर्भपात कराया जाता है। इस पर जांच के लिए एसडीएम एचबी शर्मा, पीसीपीएनडीटी की सहायक नोडल अधिकारी डॉ.सृष्टि भगत, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नोडल अधिकारी शालीन शर्मा, पीसीपीएंडडीटी एडवाजरी कमेटी की सदस्य मीना की एक टीम बनाई गई। ऑपरेशन के दौरान एक गर्भवती महिला को दलाल राजेंद्र कुशवाह के माध्यम से डॉ.रीता कुशवाह के निवास पर भ्रूण लिंग चिकित्सकीय समापन के लिए भेजा गया। राजेंद्र कुशवाह डॉक्टर को पैसे देने गया। जब टीम पहुंची तो वह पैसे फेंककर भागा, जिसे बाद में पकड़ लिया गया। 
 
इसके बाद डॉ.रीता कुशवाह तथा आरोपी राजेंद्र व स्टिंग में शामिल अन्य महिलाओं के मौके पर बयान दर्ज किए गए। टीम ने डॉ.रीता कुशवाह और डमी महिला के बीच हुई बातचीत की गोपनीय रिकॉडिंग भी कराई है। प्रशासन को मौके से कोई सामग्री व अभिलेख नहीं मिला है। प्रशासन ने मल्टी के पास बने हॉस्पिटल और मल्टी में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की जांच शुरू कर दी है।

पीसीपीएंडडीटी एडवाइजरी कमेटी की सदस्य मीना शर्मा का कहना है कि 15 से 20 हजार रुपए लेकर ये लोग भ्रूण हत्या कर देते हैं। डॉक्टर ने 20 हजार रुपए जिस व्यक्ति से लिए थे, वह पुलिस को सौंप दिया गया है। इससे पूर्व भी केआरएच से जुड़ी एक महिला चिकित्सक के यहां भी प्रशासन ने कार्रवाई की थी, लेकिन सबूत न मिलने के कारण प्रशासन को चिकित्सकों आगे झुकना पड़ा था। इसलिए प्रशासन इस मामले में पूरी एहतियात बरत रहा है। डॉ.रीता कुशवाह के पति डॉ.नवीन कुशवाह भी जीआरएमसी के सर्जरी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। उनका कहना था कि उनकी पत्नी पर लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here