निजी स्कूल फीस के लिए बना रहे दबाव, बच्चों को ऑनलाइन कक्षा से किया जा रहा बाहर

0
221

भोपाल :- निजी स्कूलों को लेकर अभिभावकों में शिकायतें बढ़ती जा रही है। ताजा मामला फीस जमा नहीं करने वाले बच्चों की आईडी लॉक करने का है। स्कूल प्रबंधन ऐसे बच्चों को ऑनलाइन कक्षा से वंचित कर रहा है। दूसरी तरफ अभिभावकों का कहना है फीस का मामला जबलपुर हाईकोर्ट में विचाराधीन है। इसके बावजूद स्कूल वाले शिक्षण शुल्क के साथ-साथ कप्यूटर व स्मार्ट लास की फीस भी मांग रहे हैं। यहां तक कि कई स्कूल बस फीस की भी मांग कर रहे हैं। इसके विरोध में राजधानी के कोलार स्थित डीपीएस स्कूल के अभिभावकों ने स्कूल के सामने प्रदर्शन भी किया। अभिभावकों का कहना है कि वे सीएम हेल्पलाइन, कलेटर, जिला शिक्षा अधिकारी के पास भी शिकायत कर चुके हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अभी हाल ही में चार दिन पहले कलेटर अविनाश लवानिया ने बैठक लेकर को निर्देश दिए थे कि फीस जमा नहीं करने के कारण किसी भी बच्चे की पढ़ाई नहीं रुके।

1500 विद्यार्थियों की आईडी लॉक

बताया जाता है कि कोलार के उक्त स्कूल ने 1500 से अधिक विद्यार्थियों की आईडी लॉक कर उन्हें ऑनलाइन कक्षा से बाहर कर दिया है। अभिभावकों का कहना है कि एडवांस वार्षिक शुल्क जमा है, जिसका समायोजन अब तक स्कूल प्रबंधन ने नहीं किया है। फिर बच्चों को ऑनलाइन कक्षा से बाहर

कैसे कर दिया गया। वहीं जवाहरलाल नेहरू स्कूल में शिक्षण शुल्क के साथ मेंटेनेंस शुल्क की मांगा जा रहा है।
 
24 अगस्त को हाईकोर्ट में होगी सुनवाई
प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन के दौरान निजी स्कूलों को सिर्फ शिक्षण शुल्क लेने के निर्देश दिए थे। इसे लेकर निजी स्कूल हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ में चले गए थे। खंडपीठ ने सरकार के इस निर्णय को निरस्त कर कहा था कि शिक्षण शुल्क के साथ अन्य शुल्क भी ले सकेंगे। इस बीच जबलपुर हाईकोर्ट ने एक स्कूल के मामले में केवल शिक्षण शुल्क लिए जाने का निर्णय सुनाया था। इसके आधार पर जबलपुर हाईकोर्ट में कई याचिकाएं लगीं, जिनकी सोमवार को सुनवाई थी, लेकिन अब 24 अगस्त को होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here