प्राइवेट डॉक्टर की इलाज में बड़ी लापरवाही, इलाज के दौरान महिला की हुई मौत- परिजनों ने किया हंगामा 

0
529
private-doctors-negligence-family-commotion
ग्वालियर :- जिले के डबरा नगर में छह दिन से बीमार एक महिला की मौत पर परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा। इस महिला का नए बस स्टैंड पर एक प्राइवेट डाक्टर के क्नीनिक पर इलाज चल रहा था। डाक्टर परिजन को लगातार महिला के ठीक होने का भरोसा दिलाता रहा। लेकिन महिला की हालत में सुधार न होते हुए और बिगड़ गई। 
 
गुरुवार को जब हालत ज्यादा खराब हो गई, तो परिजन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लेकर पहुंचे। जहां डा. यशवंत शर्मा ने महिला की जांच कराने के बाद उसे ग्वालियर भेज दिया। जहां रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। परिजन शव को लेकर अस्पताल में पोस्टमार्टन के लिए लेकर आए और हंगामा करते हुए प्राइवेट डाक्टर पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग पर अड़ गए। मौके पर पहुंची पुलिस अधिकारियों ने डाक्टर के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा दिलाया तब मामला शांत हुआ।
 
जानकारी के अनुसार वार्ड क्रमांक 13 में रहने वाली महिला ममता (34) पत्नी चंदन सिहं बाथम की तबीयत खराब थी। उसे बुखार आ रहा था। उसने नया बस स्टैंड पर कोलकाता क्लीनिक के डा. बंगाली को दिखाया। प्राइवेट डाक्टर बंगाली ने महिला का छह दिन पहले इलाज शुरू किया। इलाज से पूर्व डाक्टर बंगाली ने जांचें कराई इसके बाद महिला को सुबह-शाम इंजेक्शन लगा रहा था। बुधवार की रात 10 बजे महिला की हालत बिगड़ी तो परिजन ने डाक्टर बंगाली को बुलाया डाक्टर ने महिला के घर पहुंचकर इंजेक्शन लगाया। परिजन ने डाक्टर से पूछा कि कोई चिंता की बात तो नहीं है इस पर डाक्टर ने कहा कि कोई दिक्कत नहीं है ठीक हो जाएगी। महिला की हालत में सुधार न होने पर परिजन सुबह उसे लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लेकर पहुंचे और डा. य़शवंत शर्मा को चैकअप कराया। डा. शर्मा ने महिला ईसीजी व खून की जांच कराई। रिपोर्ट आने तक डा. शर्मा ने महिला को ग्वालियर रेफर कर दिया। महिला को परिजन इलाज के लिए ग्वालियर ले जा रहे थे कि जौरासी पहुंचने पर महिला ने दम तोड़ दिया।

परिजन महिला की लाश लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लेकर पहुंचे। जहां पोस्टमार्टम से पहले प्राइवेट डाक्टर बंगाली पर इलाज में लापरवाही व गलत इंजेक्शन का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग पर अड़ गए और महिला के परिजन व वार्ड के लोगों ने हंगामा कर दिया। सूचना मिलते ही मौके पर भितरवार पुलिस पहुंच गई और पुलिस अधिकारियों ने परिजन को डाक्टर के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा दिलाया इसके बाद मामला शांत हुआ।

ये भी पढ़े : आयकर की बड़ी कार्रवाही: 500 करोड़ के लगभग टैक्स चोरी और बेनामी सम्पति की शिकायत पर हो रही कार्रवाही

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here